उदास रहने के नुकशान – disadvantages of being depressed in hindi

उदास रहने के नुकशानdisadvantages of being depressed in hindi

जब व्यक्ति उदास हो जाता है तो उसका दिमाग भी संपूर्ण रूप से काम करना बंद कर देता है और वह तनाव की स्थिति में धीरे-धीरे जाने लगता है| इसीलिए हमें कभी भी उदास नहीं होना चाहिए क्योंकि उदास होने के बाद में हमारा जीवन के प्रति जो भी आनंद होता है वह मर जाता है और हम जीवन में कुछ भी अच्छा सोचना ही बंद कर देते हैं| इसीलिए हमें कभी भी उदास नहीं होना चाहिए | आज हम जानेगे की उदास रहने के नुकशान(disadvantages of being depressed in hindi) क्या क्या हैं|

आइये शुरू करते हैं उदास रहने के नुकशान(disadvantages of being depressed in hindi)

उदासी हमारे उत्साह और प्रेरणा को मार देती है|

देखा गया है कि जो लोग हमेशा उदास रहते हैं उनके अंदर किसी भी कार्य को करने के लिए प्रेरणा नहीं होती है और ना ही उत्साह होता है|

  • वह अपने जीवन में दुखी ही रहते हैं और आगे भी दुखी ही रहना चाहते हैं|
  • उनके अंदर किसी भी काम को करने के लिए जोश जुनून और जिज्ञासा बिल्कुल भी नहीं होती है|वह सिर्फ अपना समय काट रहे होते हैं और कभी भी बदलाव करना नहीं चाहते

लेकिन जो व्यक्ति उदास उदासी की जगह अपने चेहरे पर खुशी रखता है और हमेशा खुश रहता है उस व्यक्ति के अंदर उत्साह भी ज्यादा होता है और हमेशा काम करने के लिए प्रेरित भी होता है| इसीलिए अगर आप भी हमेशा प्रेरित रहना चाहते हैं और खुद को उत्साह से भरे रखना चाहते हैं तो आपको कभी भी खुद के चेहरे पर उदासी को हावी नहीं होने देना है |

उदास होकर हम कभी भी अच्छा काम नहीं कर सकते

यह भी देखा गया है कि जितने भी लोग उदास रहते हैं वह अपने काम में इतने अच्छे नहीं होते जितने की खुशमिजाज वाले लोग होते हैं|

  • जब आप उदास हो जाते हो तो इससे आपकी सभी मांसपेशियां खुलती नहीं है और आप हर काम में ढीले हो जाते हो, जिसके कारण आपके कार्य क्षमता भी काफी गुना कम हो जाती है|
  • उदास होने से हमारा मन ही नहीं बल्कि हमारा शरीर भी करने लगता है क्योंकि हमारा शरीर हमारे मन के द्वारा ही नियंत्रित रहता है|
  • अगर हम अपने मन को उदासी में ले लेंगे तो इससे हमारा दिमाग नकारात्मक विचारों से भर जाता है जिसके कारण हमारे शरीर की सभी मांसपेशियां हाथ पैर इतने अच्छे काम नहीं करते, जितने कि हम खुश रहने पर करते हैं |

इसीलिए अगर आप भी अपने काम को बेहतर तरीके से करना चाहते हो तो आपको कभी भी उदास रहने की आवश्यकता नहीं है| अगर आवश्यकता है तो हमें खुश रहने की है और अगर हम खुश रहेंगे तो हम उतना ही अच्छा कार्य भी कर पाएंगे|

उदासी के कारण व्यक्ति सुस्त हो जाता है |

जो व्यक्ति जितनी ज्यादा उदास रहते हैं वह काम में उतने ही ज्यादा सुस्त रहते हैं| इसीलिए जब भी बड़ी-बड़ी कंपनियों के इंटरव्यू होते हैं तो वही है देखने की कोशिश करते हैं कि क्या इंसान यह इंसान सच में खुश है?

क्योंकि वह जानते हैं कि अगर व्यक्ति हमेशा खुश रहता है और स्थिति में खुश रहता है तो वह हमारी कंपनी के लिए अच्छे निर्णय भी लेगा और वह वह अच्छे कार्य भी करेगा|

  • जब आप उदास हो जाते हो और निराशा से भर जाते हो तो आप कभी भी अच्छे निर्णय नहीं ले सकते और आप कभी भी समय पर काम को पूरा नहीं कर सकते हो| इसीलिए खुश रहना बहुत आवश्यक है |

अगर आप भी अपने हर कार्य को समय पर निपटाना चाहते हैं और हर परिस्थिति में अच्छे निर्णय लेना चाहते हैं, तो आपको खुश रहना आना ही चाहिए और अगर आप भी उदासी से भरे रहते हो, तो आज से ही खुद को खुश रखने के लिए काम करना शुरू कर दें और पूरी कोशिश करें कि आप हमेशा हंसते रहे|

उदास रहने से समस्याएं और ज्यादा बढ़ जाती है |

आप जरा सोच कर देखिए अगर आप उदास रहोगे तो क्या आप के जीवन से समस्याएं भाग जायेंगी| नहीं ऐसा कभी नहीं होगा |

  • अक्सर देखा जाता है कि जो व्यक्ति जितना ज्यादा उदास रहता है उसके पास उतने ही और ज्यादा कारण बढ़ते चले जाते हैं कि वह और भी ज्यादा उदास रहे|
  • जितना व्यक्ति खुश रहेगा उसके पास उतने ही ज्यादा समस्याएं कम रहेंगी और उसके पास उतने ही ज्यादा कारण रहेंगे कि वह हमेशा हंसता रहे| इसीलिए जान ले की आपके उदास रहने से कुछ भी बदलने वाला नहीं है बल्कि आप की परिस्थितियां और भी खराब होने वाली है|

इसीलिए अगर आप भी अपने परिस्थितियों को सुधारना चाहते हो तो आप दुखी रह कर कभी भी नहीं सुधार सकते| अतहमेशा खुश रहने की कोशिश करें और उदासी के भाव को अपने मन से अपने चेहरे से अपने शरीर से बिल्कुल पूरी तरह से निकाल दें और फिर देखना आपका जीवन भी धीरे-धीरे बदलना शुरू हो जाएगा|

उदास रहने वाले व्यक्तियों से लोग दूर रहना पसंद करते हैं

जो व्यक्ति हमेशा रोता रहता है और अपने चेहरे पर उदासी लेकर घूमता रहता है उसके दोस्त भी कम होते हैं और लोग भी उससे कम ही बातें करने की कोशिश करती है क्योंकि जब भी आप ऐसे व्यक्ति से बात करेंगे तो वह हमेशा अपनी जिंदगी का रोना रोता रहता है| जिसके कारण लोग उनसे बातचीत करने से बचते हैं| अब जानते हैं उदास रहने के नुकशान अगले नुकशान |

नौकरी पाने में समस्या

आपका उदास रहने का स्वभाव आपको कभी भी अच्छी नौकरी नहीं दिला सकता और अपने कार्य में बेहतर नहीं बना सकता और कभी भी आप के रिश्ते कभी भी किसी के साथ अच्छे नहीं हो सकते|

इसीलिए अगर आप भी अच्छी नौकरी पाना चाहते हो अपने रिश्तो को सुधारना चाहते हो और अपने दोस्तों को बढ़ाना चाहते हो तो सबसे अच्छा साधन यही है कि आप आज से ही अपने उदासी वाले स्वभाव को जाने दे और खुशी वाले स्वभाव को अपना ले|

आज से ही खुद के मन को उत्साह से भर ले और उदासी को जाने दे| हमेशा अपने चेहरे पर खुशी रखें क्योंकि आप जितने ज्यादा खुश रहोगे आपका मन उतना ही ज्यादा संतुलन में रहेगा और आप कभी भी धैर्य नहीं खावोगे|खुश रहने से आप सुस्त के बजाय मेहनती इंसान बन जाओगे|


2 thoughts on “उदास रहने के नुकशान – disadvantages of being depressed in hindi”

Leave a Comment