crossorigin="anonymous"> क्रोध के गुलाम कभी मत बनो बल्कि क्रोध को अपना गुलाम बनाओ

क्रोध के गुलाम कभी मत बनो बल्कि क्रोध को अपना गुलाम बनाओ

आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताएंगे जिनको अपनाकर आप क्रोध को अपना गुलाम बना सकते हो(क्रोध के गुलाम कभी मत बनो) तथा अपने दिमाग को भी नियंत्रित कर सकते हो क्योंकि ज्यादातर लोग ही क्रोध के गुलाम बन जाते हैं और अपने शरीर को नष्ट करना शुरू कर देते हैं| अतः क्रोध को अपने वश में रखना बहुत जरूरी है वरना यह आपको अपने वश में रखकर आपके जीवन को, आपके कैरियर को, आपके शरीर को और आपके सभी रिश्तो को बर्बाद कर सकता है|

आइए जानते हैं कि वह तरीके कौन सी है जिनके द्वारा हम अपने क्रोध को अपना गुलाम बना सकते हैं तथा उस पर नियंत्रण पा सकते हैं|

क्रोध के गुलाम कभी मत बनो

खुद को शांत रखने की कोशिश करें

जब भी आपको क्रोध आए तो हमेशा अपने आप को शांत रखने की कोशिश करें तथा एक जगह बैठकर शांति से सोचे कि क्या सच में कोई ऐसी स्थिति है जिसके ऊपर हम क्रोध जता रहे हैं या क्रोधित होने  के लिए कोई चीज ही नहीं है|

जब आप इस तरह से शांत रहकर सोचने की कोशिश करोगे तो आपको पता चलेगा कि क्रोध करने लायक कोई बात है ही नहीं बल्कि एक छोटी सी बात है जिस पर आप झूठे ही क्रोध कर रहे हो| इसीलिए किसी भी बात पर क्रोध करने की बजाय पहले सोचने की कोशिश करेगी क्या क्या यहां पर मुझे क्रोध करने की आवश्यकता है या नहीं| ऐसा करने से आपका क्रोध धीरे-धीरे दूर होना शुरू हो जाएगा|

सब कुछ सही है

ज्यादातर लोग उसी समय में क्रोध करते हैं जब उनको लगता है कि सब कुछ गलत हो रहा है है और उनके हिसाब से कुछ नहीं हो रहा है| इसीलिए हमेशा यह बात ध्यान में रखें कि सब कुछ सही चल रहा है और आपकी हिसाब  से ही चल रहा है| ऐसा सोचने से आपका क्रोध भी आपसे दूर रहेगा और आपको लगेगा कि हां सब कुछ सही है और आपका मन भी इसी तरह शांत रह पाएगा|

क्रोध एक बीमारी है

आप अच्छी तरह से जान लें कि क्रोध एक ऐसी बीमारी है जो आपके शरीर को दीमक की तरह चाट जाती है और आपके जीवन को बर्बाद कर सकती है| इसीलिए हमें इस बीमारी से दूर ही रहने की आवश्यकता है तथा इस तरह की बीमारी हमारे किसी भी काम नहीं आने वाली है|

इसीलिए आज से ही इसका उपचार करने की पूरी कोशिश करें|

गलतियों को भूलना सीखो

ज्यादातर लोग अपनी गलतियों पर क्रोध करते हैं या दूसरों की गलतियों पर करते हैं| इसीलिए हमें यह जानना जरुरी होता है कि गलतियां सभी से होती है| हमसे भी गलतियां हुई है तो हमें अपनी गलतियों को भूलना आना चाहिए तथा दूसरों की गलतियों को भी भूलाना आना चाहिए| ऐसा करने से ही हम आगे बढ़ पाएंगे और खुद से क्रोध को दूर रख पाएंगे|

इसीलिए जब भी किसी से गलती हो तो उस पर क्रोध आने की बजाय यह सोचे कि गलतियां मुझसे भी होती है और गलतियां सभी से होती है| ऐसा करने से आप भी क्रोध को अपने आप से दूर रख पाओगे|

हर चीज पर नियंत्रण नहीं पा सकते

लोगों को लगता है कि वह हर चीज पर नियंत्रण पा सकते हैं| इसीलिए हर चीज पर नियंत्रण पाने की कोशिश करते हैं और जब भी ऐसा नहीं होता है तो उनको तुरंत ही क्रोध आना शुरू हो जाता है|

इसीलिए यह जानना जरूरी है कि हम हर चीज को नियंत्रित नहीं कर सकता है|हर इंसान को भी हम नियंत्रित नहीं कर सकते| इसीलिए अपने खुद के द्वारा किसी भी इंसान को नियंत्रित करने की कोशिश भी ना करें |ऐसा करने से आप ही अपने शरीर को नष्ट करोगे|

आज से ही क्रोध को अपने आप से दूर जाने दे क्योंकि यह आपके शरीर को दीमक की तरह चाट जाएगा| इसीलिए जरूरी है कि हम क्रोध के गुलाम कभी मत बनो और क्रोध को अपना गुलाम बना ले और कभी भी अपने शरीर के अंदर क्रोध को ना घुसने दे ताकि हम भी अपने जीवन में कुछ अच्छा कर सके और अच्छी तरह से कर सकें|



Leave a Comment