crossorigin="anonymous"> क्रोध मनुष्य का शत्रु है - Motivation For Life

क्रोध मनुष्य का शत्रु है

आज हम आपको बताएंगे कि क्रोध कैसे क्रोध मनुष्य का शत्रु है है और कैसे हमें बदनाम करता है| आइये जानते हैं कि क्रोध हमारा दुश्मन क्यों है और यह कैसे हमारे व्यक्तित्व को मिट्टी में मिला देता है|

क्रोधी व्यक्ति की सभी लोग निंदा करते हैं

जो व्यक्ति बात-बात पर क्रोध करता रहता है और दूसरों पर अपना गुस्सा निकालता रहता है उस व्यक्ति की सभी लोग निंदा करते हैं और उसे कोई भी पसंद नहीं करता|

क्रोधी लोग अच्छे रिश्ते नहीं बना पाते

देखा गया है कि जो लोग क्रोधी होते हैं वे कभी भी अच्छे रिश्ते नहीं बना पाते हैं क्योंकि क्रोध उनके रिश्तो में दरार पैदा करता है| जब एक मनुष्य क्रोध करके दूसरे इंसान पर चिल्लाता है तो इससे हमारे रिश्ते खराब होते हैं| इसीलिए क्रोधी व्यक्ति कभी भी अच्छे रिश्ते नहीं बना पाता|

क्रोधी व्यक्ति घर के माहौल को तनाव में लाता है

अगर किसी घर में एक क्रोधी व्यक्ति है तो उस घर का माहौल हमेशा नकारात्मक ही रहेगा और उनके घर के माहौल में ही तनाव की स्थिति पैदा हो जाती है| इसीलिए कहा जाता है कि क्रोध हमारा दुश्मन है और यह हमारे पूरे जीवन को बर्बाद कर सकता है| अतः आज से ही क्रोध को दूर रखें ताकि आपके घर का माहौल अच्छा रह सके|

कार्यक्षेत्र पर आलोचना होती है

क्रोधी मनुष्य की हमेशा कार्य क्षेत्र पर आलोचना होती है और उसके साथ काम करने वाले लोग भी उसकी आलोचना करते रहते हैं|

आपने देखा ही होगा कि आपके क्षेत्र में अगर कोई क्रोधी मनुष्य है तो लोग उसके बारे में बातें करते हैं और उसके उसकी बुराई भी करते हैं|

खुद के बच्चे ही दूरी बनाने लगते हैं

क्रोधी मनुष्य से उसके खुद के बच्चे ही दूरी बनाने लगते हैं क्योंकि क्रोधी मनुष्य को कोई भी पसंद नहीं करता| बच्चे क्रोधी मनुष्य से डरने लगते हैं इसीलिए उसे दूरी बनाना ही वह बेहतर समझते हैं|

क्रोधी व्यक्ति से लोग दूर भागते हैं

जो व्यक्ति क्रोध से भरा होता है उसका कोई भी दोस्त बनना पसंद नहीं करता क्योंकि वह कब क्या कर दे किसी को कोई पता नहीं है |कोई भी इंसान क्रोधी मनुष्य को अपना दोस्त नहीं बनाना चाहता और ना ही उसके साथ रहना चाहता है| इसीलिए क्रोधी मनुष्य हमेशा अकेला रह जाता है और लोग उसे दूर भागना शुरू कर देते हैं|

तो आपने जाना कि क्रोध कैसे हमारा दुश्मन है / कैसे क्रोध मनुष्य का शत्रु है इन्हीं बातों के कारण क्रोध हमारे व्यक्तित्व को मिट्टी में मिला देता है| इसीलिए जरूरी है कि हम क्रोध को आज से ही जाने दे और हमेशा शांत रहे|

शांत रहने से लोग भी हमारे आसपास रहना पसंद करते हैं और वह हमें आदर सम्मान भी देते है| इसीलिए क्रोध को भूल जाओ |


Leave a Comment