ग्रेट थॉट्स इन हिंदी – निर्बलता कमजोरी अयोग्य हमारी सोच का नतीजा है|

ग्रेट थॉट्स इन हिंदी- निर्बलता कमजोरी अयोग्य हमारी सोच का नतीजा है

अगर आपको लगता है कि आपका शरीर कमजोरियों से भरा हुआ है और आप निर्बल है और आप कुछ भी नहीं कर सकते और आप पूर्ण रुप से अयोग्य है तो यह निश्चित रूप से सच है |

अगर आप भी लंबे समय से खुद को अयोग्य, निर्बल और कमजोर समझते हो तो कुछ समय के बाद में आपको यह एहसास भी हो जाता है कि यह सच है|

ग्रेट थॉट्स इन हिंदी

जब आप निर्बलता, कमजोरी, अयोग्यता जैसे विचार अपने दिमाग में रखते हो तो यह हमारे शरीर में भी बसने लगता है और हमें इस बात पर पूर्ण रुप से विश्वास हो जाता है क्योंकि हमारी सोच कभी ना कभी सत्य का रूप जरूर धारण करती है और अगर हमारे विचार ही खुद को कमजोर बनाने वाले जैसे होंगे तो हम भी समय के साथ एक दिन कमजोर बन जाएंगे|

ग्रेट थॉट्स इन हिंदी

 हमारा मन असीम शक्तियों से भरा हुआ है

अगर हम खुद को कमजोर निर्बल वह अयोग्य समझने की बजाय खुद की असीम शक्तियों पर विश्वास करें तो समय के साथ वह शक्तियां बाहर आने शुरू हो जाएंगे और हम पूरे आत्मविश्वास से बढ़कर कुछ भी हासिल कर सकते हैं|

ग्रेट थॉट्स इन हिंदी

हम अपने परिश्रम और अपनी योजनाओं के माध्यम से इस जीवन में वह सब कुछ पा सकते हैं जो हम पाना चाहते हैं| बस इसके लिए हमारे अच्छी सोच का होना बहुत आवश्यक है, पर ज्यादातर लोग ही यह पहचान नहीं पाते| वह तो सिर्फ यही जानते हैं कि वह निर्बल है, अयोग्य है और किसी भी काम को नहीं कर सकते| इसीलिए वह किसी भी काम को अंजाम नहीं दे सकते|

अगर आप भी इन कमजोरियों को दूर करना चाहते है तो खुद की मन की असीम शक्तियों पर विश्वास करें और उनको खुद उनको बाहर निकाले|

कमजोरियों के पीछे प्रतिभा छुप जाती है

अगर आप आप भी खुद के अंदर कमजोरियों को देखने लग जाओगे, तो आपकी सभी प्रतिभा आपकी कमजोरियों के पीछे ही छुप जाएंगे और वह कभी भी बाहर आने का नाम नहीं लेंगे|

ग्रेट थॉट्स इन हिंदी

इसीलिए हम अपनी कमजोरियों पर कभी भी ध्यान नहीं दें क्योंकि कमजोरियों पर ध्यान देने से कमजोरियां और भी बढ़ जाती है और फिर हमारे प्रतिभाये  धीरे-धीरे कमजोर होकर दबना शुरू हो जाती है|

  • अगर हम खुद को लंबे समय कमजोर समझने लगेंगे तो हमारी योग्यता अपने आप ही खत्म होनी शुरू हो जाएगी|(ग्रेट थॉट्स इन हिंदी)
  • अगर हम लंबे समय तक खुद को निर्बल समझना शुरू कर देंगे तो हमारा शरीर भी कमजोर होना शुरू हो जाएगा और हमें इस बात पर विश्वास भी हो जाएगा|
  • अगर हम खुद को कमजोर समझना शुरू करेंगे कर देंगे तो समय के साथ हम कमजोर बनना भी शुरू हो जाएंगे|

इसीलिए हम अपनी कमजोरियों की बजाय अपनी प्रतिभाओं पर विश्वास करें और उनको बाहर निकाल कर इस दुनिया में अपना नाम कमाए|

 एक बार अपनी सोच को बदलने की कोशिश करो

अगर आप भी अपने शरीर की कमजोरियों को, अपनी निर्मलता को और अपनी अयोग्यता को दूर करना हैं तोआपको अपनी सोच को बदलना होगा और अपने विचारों को खुद की मन की असीम शक्तियों पर ध्यान लगाना होगा और देखना होगा आप भी बदल जाओगे|

प्रतिभाये तो बहुत हैं  बस वह छुपी हुई है

आपके अंदर प्रतिभाये तो बहुत हैं  बस वह छुपी हुई है और उनको बाहर निकालने के लिए बस आपको मेहनत करनी है| जिस तरह हमने खुद की कमजोरियों पर विश्वास कर लिया और फिर समय के साथ उन्होंने अपना वास्तविक रूप धारण कर लिया, उसी तरह अगर हम अपने प्रतिभाओं पर विश्वास करना शुरू कर देंगे तो वह भी समय के साथ अपना वास्तविक रूप धारण कर लेंगे और फिर हम कमजोर इंसान से ताकतवर बन जाएंगे |एक निर्बल इंसान से शक्तिशाली इंसान बन जाएंगे और एक अयोग्य इंसान से बदलकर योग्य इंसान बन जाएंगे|

इसीलिए आज से ही अपनी सोच को बदलना शुरू करो और वह तभी संभव है जब आप लंबे समय तक अच्छे विचारों(ग्रेट थॉट्स इन हिंदी) का सेवन करते हो ,जो आपको हमारे ब्लॉग पर बड़ी आसानी से मिल जाएंगे| इसीलिए आज से ही आप हमारा blog(ग्रेट थॉट्स इन हिंदी) को सब्सक्राइब कर लो और लगातार इनको पढ़ते रहो इससे आपकी भी सोच बदल जाएगी|

1 thought on “ग्रेट थॉट्स इन हिंदी – निर्बलता कमजोरी अयोग्य हमारी सोच का नतीजा है|”

Leave a Comment