छोटे बच्चों को पढ़ना कैसे सिखाये

छोटे बच्चो को पढ़ाना इतना आसान नहीं हैं और उनका ध्यान पढ़ाई पर लगाना भी| हम क्या करे ताकि उनको बचपन से ही पढने की लत लग जाए | आज हम इसी बारे में बात करेंगे|

छोटे बच्चों को पढ़ाने के 10 तरीके

अगर आपके घर में भी छोटे बच्चे हैं और आप उनको पढ़ाना चाहते हैं तो आज हम आपको 12 तरीकों के द्वारा बताएंगे कि छोटे बच्चों को कैसे पढ़ाएं|

आप इन सभी तरीकों को अपनाकर छोटे बच्चों को अच्छी तरह से पढ़ा सकते हो और यह भी सीख सकते हो कि छोटे बच्चों को कैसे पढ़ाएं|

आइए जानते हैं कि वेद 12 तरीके कौन से दिन के द्वारा हम छोटे बच्चों को पढ़ा सकते हैं और उनको अच्छी तरह से याद भी करवा सकते हैं | छोटे बच्चों को कैसे पढ़ाएं |

रंग बिरंगी किताबें लाकर दे

जब बच्चे अपने बचपन में हो तभी आपको उनको रंग-बिरंगे किताब ला कर देनी चाहिए| जिनमें साथ साथ में सीखने लायक बातें भी हो ताकि वे उनमें interest  ले सके और उनको पढ़ना शुरू कर दें और उनके अंदर पढ़ने की जिज्ञासा भी पैदा हो जाए|

पढ़ने के फायदों के बारे में बताएं

जब भी आपके बच्चे धीरे-धीरे बड़े होने लगे तभी हमें उनके उनको पढ़ने के फायदों के बारे में बताना चाहिए तथा यह भी बताना चाहिए कि पढ़ाई का महत्व आज कितना है|

ऐसा करने से वह भी पढ़ने के लिए उत्सुक हो जाएंगे और शुरू से ही पढ़ना शुरू कर देंगे |

फोन की बजाय किताब हाथों में दें

बचपन में ज्यादातर माता-पिता अपने बच्चों को की जिद के आगे झुक जाते हैं और उनको शुरुआत में ही फोन देना शुरु कर देते हैं| इससे असर यह होता है कि उनका इंटरेस्ट किताबों के बजाय फोन में ज्यादा चला जाता है| इसीलिए हम बचपन से ही अपने बच्चों को फोन की बजाय किताब हाथों में दे दे|

ऐसा करने से वह किताबों में ही अपना इंटरेस्ट लेना शुरू कर देंगे|

इनाम का लालच दे

जब भी आपके बच्चे बड़े हो रहे हो तो हमें उनको इनाम का लालच देना चाहिए और उनको कहना चाहिए कि अगर आप लगातार पढ़ाई करोगे और अच्छेमार्क्स  ला कर दोगे तो मैं तुम्हें वह इनाम दूंगा या वह उपहार लाकर दूंगा|

ऐसा करने से वे लालच में आकर पढ़ाई करना शुरू कर देंगे और धीरे-धीरे यही उनकी आदत बन जाएगी |

अपने तरीकों से पढ़ने दे

अपने बच्चों को अपने तरीकों से पढ़ने दे बल्कि उन पर अपने तरीके कभी भी ना थोपे | उनको अपने तरीको से पढने दो | जो भी समय उनको अच्छा लगे उसी समय उनको पढ़ने ददो  ना की आप अपनी तरफ से ही उन पर दबाव बनाए |

अतः अपने बच्चों को अपने तरीकों से पढ़ने दे उनको |जब भी अच्छा लगे उसी वक्त उनको पढ़ने दे |

साथ में थोड़ा समय बिताये

जब भी आपको थोड़ा सा भी समय मिले तो जरूर आपको अपने बच्चों के साथ समय बिताना चाहिए तथा उनकी मदद करनी चाहिए| उनको पढ़ने के तरीकों के बारे में बताना चाहिए तथा जब भी आप उनसे बात करें तो उनको उनसे पढ़ाई के बारे में कुछ पूछना चाहिए था| कभी-कभी उनके साथ कंपटीशन भी करना चाहिए कि क्या तुम्हें यह आता है या वह आता है|

ऐसा करने से भी उनके अंदर पढ़ाई के लिए जिज्ञासा पैदा होगी|

शुरुआत से ही घर में एक्स्ट्रा क्लासेस दे

सभी आपके बच्चे स्कूल से आए तो आपको उनके लिए घर में भी एक टीचर का इंतजाम करना चाहिए| यह आप उनको खुद भी पढ़ा सकते हो| इसका असर यह होगा कि उनकी पढ़ने में रुचि से लग जाएगी तथा उनको जो भी स्कूल में समझ में नहीं आएगा वह अच्छी तरह से घर में समझ लेंगे|

वीडियोस के द्वारा पढाये |

आप अपने बच्चों को शुरुआत में वीडियो के द्वारा भी पढ़ा सकते हो क्योंकि उनका इंटरेस्ट देखने में ज्यादा होता है| जब भी वीडियो के द्वारा पढ़ेंगे तो इनसे उनको लंबे समय तक याद रखने में भी मदद मिलेगी तथा उनको इंट्रेस्ट भी आने लग जाएगा| फिर भी धीरे-धीरे अपने आप ही पढ़ना शुरू कर देंगे|

लाइब्रेरी में पढ़ने की आदत डालें

घर में आप एक अलग से में उनके लिए एक लाइब्रेरी भी बना के दे सकते हो जहां वे आराम से वे शोर-शराबे से दूर रहकर अपना पूरा ध्यान पढ़ाई पर केंद्रित कर सकते हैं| अगर आप किसी बच्चे के लिए अपने घर में एक लाइब्रेरी बना कर देते हो तो वह पढ़ने का इच्छुक हो जाएगा| जहां वह आसानी से पढ़ भी पाएगा और अपना पूरा ध्यान पढ़ाई पर भी लगा पाएगा|

एक अच्छा सा शेड्यूल बनाएं

आप अपने बच्चों के लिए पढ़ाई के लिए एक अच्छा सा शेड्यूल बना सकते हो उसी का शेड्यूल में रहकर पढ़ाई कर सकते हैं|यह  शेड्यूल उनके रूम में कहीं दीवार पर लगा सकते हो या उनके पढ़ने की टेबल पर भी लगा सकते हो |ताकि उनको ध्यान में रहे कि उनको किस वक्त पढ़ना है|

कभी दबाव न डाले

आपके बच्चे अच्छी तरह से पढ़े तो हमे उन पर कभी भी ज्यादा दबाव नहीं डालना चाहिए बल्कि उनको अपने तरीके से पढ़ने दे |ज्यादातर माता-पिता अपने बच्चों पर इतना दबाव डाल देती है कि वह अपना focus अपनी study पर नहीं लगा पाते हैं |इसीलिए उनको तनाव की स्थिति से ना गुजरने दे बल्कि उनको अपने मन के मुताबिक ही पढ़ाई करने दे|

Leave a Comment